Tag Archives: अमिता सिंह

जिन्दगी और रंगमंच ~ अमिता सिंह ~

Jindgi aur rangmanch by Amita Singh

जिंदगी रंगमंच, हर दिन नई किस्सा है। सबको अपना अपना, किरदार निभाना है ।। सब को लिखना अपना, मिशाल और इतिहास है। उलझन तो आम है , अमीर-गरीब सब पर मेहरबान है।। गिरो,जख्मी हो,पर उठो तो खुद उठो, किसी और … Continue reading

Posted in Literature, Short Poems | Tagged , , , , , , , , , , , , , , | 2 Comments